अब जज़्बा-ए-वहशत की क़सम मत खाओ बाक़र मेहदी

अब जज़्बा-ए-वहशत की क़सम मत खाओ

रह रह के मोहब्बत की क़सम मत खाओ

आँखों की चमक खोल न दे सारा भरम

ख़ुद अपनी सदाक़त की क़सम मत खाओ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s