आखिर क्यों / हरकीरत हकीर

आखिर क्यों चाहिए
तुम्हें बस उतना ही आकाश
जितना है उसकी बाहों का घेरा है ….
जितने हैं उसके पैर ….
जितनी है उसकी जमीन …
जितनी है उसकी चादर …
क्यों … ?
आखिर क्यों … ?
तुम्हारे पास भी पंख हैं
फिर हौसला क्यों नहीं … ?

श्रेणी: नज़्म

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s