आग़ाज़ है कुछ तिरा न अंजाम तिरा सुरूर जहानाबादी

आग़ाज़ है कुछ तरह न अंजाम तिरा

बंदों पे हमेशा लुत्फ़ है आम तिरा

मंदिर में है हर ख़ुदा है तू मस्जिद में

जपते हैं शैख़-ओ-बरहमन नाम तिरा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s