आता नहीं साँसों में मज़ा पीने का अख़्तर अंसारी

आता नहीं साँसों में मज़ा पन्ने का

खिलता ही नहीं ज़ख़्म मिरे सीने का

हर रोज़ अगर एक रुबाई न कहूँ

होता नहीं हक़ जैसे अदा जीने का

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s