इक ख़्वाब की ताबीर हक़ीक़त ही न हो बाक़र मेहदी

इक ख़्वाब की ताबीर हक़ीक़त ही न हो

अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल में मोहब्बत ही न हो

ख़्वाबों से हक़ीक़त को समझने वालो

मुमकिन है तख़य्युल में सदाक़त ही न हो

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s