इस बाग़ में किस को फूल चुनते देखा सुरूर जहानाबादी

इस बाग़ में किस का फूल चुनते देखा

सर ख़ाक पे बाग़बाँ को धुनते देखा

बुलबुल ने तड़प के जान दी ऐ सय्याद

नाला न यहाँ किसी का सुनते देखा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s