ऐ शैख़-ए-हरम तक तुझे आना जाना मोहम्मद रफ़ी सौदा

ऐ शैख़-ए-हरम तक तुझे आना जाना

ये तौफ़ जुलाहे काहे ताना बाना

पहचानेगा वाँ क्या उसे हैराँ हूँ मैं

जिस को हरम-ए-दिल में न तीं पहचाना

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s