कितनों को जिगर का ज़ख़्म सीते देखा फ़ानी बदायुनी

कितनों को जिगर का ज़ख़्म सीते देखा

देखा जिसे ख़ून-ए-दिल ही पीते देखा

अब तक रोते थे मरने वालों को और अब

हम रो दिए जब किसी को जीते देखा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s