ग़फ़लत की हँसी से आह भरना अच्छा अकबर इलाहाबादी

ग़फ़लत की हँसी से आह भरना अच्छा

अफ़आल-ए-मुज़िर से कुछ न करना अच्छा

‘अकबर’ ने सुना है अहल-ए-ग़ैरत से यही

जीना ज़िल्लत से हो तो मरना अच्छा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s