जिस दिल में ग़ुबार हो वो दिल साफ़ कहाँ शाद अज़ीमाबादी

जिस दिल में ग़ुबार हो वो दिल साफ़ कहाँ

फिर ख़ल्क़ कहाँ वक़ार-ए-अल्ताफ़ कहाँ

जिस क़ौम में आ गया तअस्सुब का क़दम

उस क़ौम में ऐ ‘शाद’ फिर इंसाफ़ कहाँ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s