तालीम की मीज़ान में हैं तुलते जाते सययद मोहम्म्द अब्दुल ग़फ़ूर शहबाज़

तालीम की मीज़ान में हैं तुलते जाते

हैं जौहर-ए-तब्अ रोज़ खुलते जाते

है अक़्ल की बज़्म आलिमों रौशन

ख़ुद गरचे हैं मिस्ल-ए-शम्अ’ घुलते जाते

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s