पीरी की सपेदी है कि मरता हूँ मैं बयान मेरठी

पीरी की सपेदी है कि मरता हूँ मैं

जूँ शम्अ’ दम-ए-सुब्ह गुज़रता हूँ मैं

जन्नत की हवा भरी है सीने में ‘बयाँ’

ठंडी ठंडी जो साँस भरता हूँ मैं

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s