फिरती हूँ लिए सोज़-ए-हयात आँखों में अख़्तर अंसारी

फिरती हूँ लिए सोज़-ए-हयात आँखों में

है जल्वा-नुमा ग़म की बरात आँखों में

उम्र अपनी कुछ इस तरह बिताई मैं ने

जिस तरह कोई काट दे रात आँखों में

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s