बुत-ख़ाने से दिल अपने उठाए न गए मीर तक़ी मीर

बुत-ख़ाने से दिल अपने उठाए न गए

काबे की तरफ़ मिज़ाज लाए न गए

तौर-ए-मस्जिद को बरहमन क्या जाने

याँ मुद्दत-ए-उम्र में हम आए न गए

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s