मिलिए उस शख़्स से जो आदम होवे मीर तक़ी मीर

मिलिए उस शख़्स से जो आदम होवे

नाज़ उस को कमाल पर बहुत कम होवे

हो गर्म-ए-सुख़न तो गिर्द आवे यक ख़ल्क़

ख़ामोश रहे तो एक आलम होवे

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s