रहमत का तेरे उम्मीद-वार आया हूँ भारतेंदु हरिश्चंद्र

रहमत का तेरे उम्मीद-वार आया हूँ

मुँह ढाँपे कफ़न में शर्मसार आया हूँ

आने न दिया बार-ए-गुनह ने पैदल

ताबूत में काँधों पे सवार आया हूँ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s