रहमान-ओ-रहीम है वो रब्ब-ए-इबाद अब्दुल अज़ीज़ ख़ालिद

रहमान-ओ-रहीम है वो रब्ब-ए-इबाद

देता नहीं उस का है ये मोहकम इरशाद

”तकलीफ़ किसी को उस की ताक़त से ज़ियाद”

क्या जानें ”ज़ियाद” से है क्या उस की मुराद

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s