लम्हों का निशाना कभी होता ही नहीं क़तील शिफ़ाई

लम्हों का निशाना कभी होता ही नहीं

वो सैद-ए-ज़माना कभी होता ही नहीं

हर उम्र में देखा है दमकता वो बदन

सोना तो पुराना कभी होता ही नहीं

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s