hain isi mein pyaar ki aabroo / हैं इसी में प्यार की आबरू

हैं इसी में प्यार की आबरू वो जफ़ा करें में वफा करून जो वफा भी न काम आ सके तो वही कहें की मैं क्या करून मुझे गम भी उनका अज़ीज़ हैं के उन्ही की दी हुई चीज़ हैं वही गम हैं अब मेरी ज़िन्दगी उसे कैसे दिल से जुदा करून जो न बन सके मैं वोह बात हूँ जो न खतम हो मैं रात हूँ लिखा हैं मेरे नसीब में युहीं क्षमा बन के जला करून न किसी के दिल की हूँ आरज़ू न किसी नज़र की हूँ जुस्ताजून मैं वोह फूल हूँ जो उदास हूँ न बहार आये तो क्या कर्रों

hain isi mein pyaar ki aabroo Lyrics
Hain isi men pyaar ki abaru
Wo jafa karen men wafa karun
Jo wafa bhi n kaam a sake
To wahi kahen ki main kya karun
Mujhe gam bhi unaka aziz hain
Ke unhi ki di hui chiz hain
Wahi gam hain ab meri zindagi
Use kaise dil se juda karun
Jo n ban sake main woh baat hun
Jo n khatam ho main raat hun
Likha hain mere nasib men
Yuhin kshama ban ke jala karun
N kisi ke dil ki hun arazu
N kisi nazar ki hun justaajun
Main woh ful hun jo udaas hun
N bahaar aye to kya karron
Additional Information
गीतकार : -,संगीतकार : -,गायक : -लाता मंगेशकर , गीत संग्रह / चित्रपट : -अनपढ़ / Lyricist : -, Music Director : -, Singer : -Lata Mangeshkar, Movie : -Anpadh

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s