Hum Tere Shahar Mein Aaye Hain / हम तेरे शहर में आये हैं मुसाफिर की तरह


हम तेरे शहर में आये हैं मुसाफिर की तरह
सिर्फ़ इक बार मुलाक़ात का मौक़ा दे

मेरी मंज़िल है कहाँ, मेरा ठिकाना है कहाँ
सुबह तक तुझसे बिछड़कर मुझे जाना है कहाँ
सोचने के लिए एक रात का मौका दे दे

अपनी आँखों में छुपा रखे हैं जुगनू मैंने
अपनी पलकों पे सजा रखे हैं आँसू मैंने
मेरी आँखों को भी बरसात का मौका दे दे

आज की रात मेरा दर्द-ए-मोहब्बत सुन ले
कपकपाती हुए होठों की शिकायत सुन ले
आज इज़हार-ए-खयालात का मौका दे दे

भूलना था तो ये इकरार किया ही क्यों था
बेवफा तूने मुझे प्यार किया ही क्यों था
सिर्फ दो चार सवालात का मौका दे दे

Hum Tere Shahar Mein Aaye Hain Lyrics
Ham tere shahar men aye hain musaafir ki tarah
Sirf ik baar mulaaqaat ka mauqa de

Meri mnzil hai kahaan, mera thhikaana hai kahaan
Subah tak tujhase bichhadakar mujhe jaana hai kahaan
Sochane ke lie ek raat ka mauka de de

Apani ankhon men chhupa rakhe hain juganu mainne
Apani palakon pe saja rakhe hain ansu mainne
Meri ankhon ko bhi barasaat ka mauka de de

Aj ki raat mera dard-e-mohabbat sun le
Kapakapaati hue hothhon ki shikaayat sun le
Aj izahaar-e-khayaalaat ka mauka de de

Bhulana tha to ye ikaraar kiya hi kyon tha
Bewafa tune mujhe pyaar kiya hi kyon tha
Sirf do chaar sawaalaat ka mauka de de

Additional Information
गीतकार : -, गायक : गुलाम अली, संगीतकार : , चित्रपट : – / Lyricist : -, Singer : Ghulam Ali, Music Director : , Movie : –

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s