In Baharon Mein Akele / इन बहारों में अकेले ना फिरो, राह में काली घटा रोक ना ले

इन बहारों में अकेले ना फिरो
राह में काली घटा रोक ना ले
मुझको ये काली घटा रोकेगी क्या
ये तो खुद है मेरी जुल्फों के तलें

ये फिजायें, ये नज़ारे शाम के
सारे आशिक हैं तुम्हारे नाम के
फूल कहती है तुम्हे बाद-ए-सबा
देखना बाद-ए-सबा रोक ना ले

मेरे कदमों से बहारों की गली
मेरा चेहरा देखती है हर कली
जानते हैं सब मुझे गुलज़ार में
रंग सबको मेरे होठों से मिले

बात ये है क्यों किसी का नाम लूँ
हो ना ऐसा मैं ही दामन थाम लूँ
जा रही हो तुम बड़े अंदाज़ से
मेरी चाहत की सदा रोक ना ले
#Dharmendra #SuchitraSen #AsitSen

In Baharon Mein Akele Lyrics
In bahaaron men akele na firo
Raah men kaali ghata rok na le
Mujhako ye kaali ghata rokegi kya
Ye to khud hai meri julfon ke talen

Ye fijaayen, ye nazaare shaam ke
Saare ashik hain tumhaare naam ke
Ful kahati hai tumhe baad-e-saba
Dekhana baad-e-saba rok na le

Mere kadamon se bahaaron ki gali
Mera chehara dekhati hai har kali
Jaanate hain sab mujhe gulazaar men
Rng sabako mere hothhon se mile

Baat ye hai kyon kisi ka naam lun
Ho na aisa main hi daaman thaam lun
Ja rahi ho tum bade andaaz se
Meri chaahat ki sada rok na le


Additional Information
गीतकार : मजरूह सुलतानपुरी, गायक : आशा – रफी, संगीतकार : रोशन, चित्रपट : ममता (१९६६) / Lyricist : Majrooh Sultanpuri, Singer : Asha Bhosle – Mohammad Rafi, Music Director : Roshan, Movie : Mamta (1966)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s