Insaaf Ka Mandir Hai Ye Bhagwan Ka Ghar Hai / इन्साफ़ का मंदिर है ये भगवान का घर है

इन्साफ़ का मंदिर है ये भगवान का घर है
कहना है जो कह दे तुझे किस बात का डर है

है खोट तेरे मन में जो भगवान से दूर है
है पाँव तेरे फिर भी तू आने से है मजबूर
हिम्मत है तो आजा ये भलाई की डगर है

दुःख दे के जो दुखिया से ना इन्साफ़ करेगा
भगवान भी उसको ना कभी माफ़ करेगा
ये सोच ले हर बात की दाता को खबर है
हिम्मत है तो आजा ये भलाई की डगर है

है पास तेरे जिसकी अमानत उसे दे दे
निर्धन भी है इन्सान मोहब्बत उसे दे दे
जिस दर पे सभी एक हैं बन्दे ये वो दर है

मायूस ना हो हार के तक़दीर की बाज़ी
प्यारा है वो ग़म जिसमें हो भगवान भी राजी
दुःख दर्द मिले जिसमे वोहीं प्यार अमर है
ये सोच ले हर बात की दाता को ख़बर है
#DilipKumar #Nimmi #Madhubala #MehboobKhan

Insaaf Ka Mandir Hai Ye Bhagwan Ka Ghar Hai Lyrics
Insaaf ka mndir hai ye bhagawaan ka ghar hai
Kahana hai jo kah de tujhe kis baat ka dar hai

Hai khot tere man men jo bhagawaan se dur hai
Hai paanw tere fir bhi tu ane se hai majabur
Himmat hai to aja ye bhalaai ki dagar hai

Duhkh de ke jo dukhiya se na insaaf karega
Bhagawaan bhi usako na kabhi maaf karega
Ye soch le har baat ki daata ko khabar hai
Himmat hai to aja ye bhalaai ki dagar hai

Hai paas tere jisaki amaanat use de de
Nirdhan bhi hai insaan mohabbat use de de
Jis dar pe sabhi ek hain bande ye wo dar hai

Maayus na ho haar ke taqadir ki baazi
Pyaara hai wo gam jisamen ho bhagawaan bhi raaji
Duhkh dard mile jisame wohin pyaar amar hai
Ye soch le har baat ki daata ko khabar hai


Additional Information
गीतकार : शकिल बदायुनी, गायक : मोहम्मद रफी, संगीतकार : नौशाद, चित्रपट : अमर (१९५४) / Lyricist : Shakeel Badayuni, Singer : Mohammad Rafi, Music Director : Naushad, Movie : Amar (1954)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s