Jag Ghoomeya / जग घूमेया थारे जैसा ना कोई

ना वो अँखियाँ रूहानी कहीं
ना वो चेहरा नूरानी कहीं
कहीं दिल वाली बातें भी ना
ना वो सजरी जवानी कहीं

जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई

ना तो हँसना रूमानी कहीं
ना तो खुशबू सुहानी कहीं
ना वो रंगली अदाएं देखीं
ना वो प्यारी सी नादानी कहीं
जैसी तू है वैसी रहना

जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई

बारिशों के मौसमों की भीगी हरियाली तू
सर्दियों में गालों पे जो आती है वो लाली तू
रातों का सुकून भी है सुबह की अज़ान है
चाहतों की चादरों में मैंने है संभाली तू
कहीं आग जैसी जलती है
बने बरखा का पानी कहीं
कभी मन जाणा चुपके से
यूँ ही अपनी चलाणी कहीं
जैसी तू है वैसी रहना

जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई

अपने नसीबों में या हौसले की बातों में
सुखों और दुखों वाली सारी सौगातों में
संग तुझे रखना है तूने संग रहना
मेरी दुनिया में भी मेरे जज़्बातों में
तेरी मिलती निशानी कहीं
जो है सबको दिखानी कहीं
तू तो जानती है मर हे भी
मुझे आती है निभानी कहीं
वही करना जो है कहना

जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
जग घूमेया थारे जैसा ना कोई
#SalmanKhan #AnushkaSharma

Jag Ghoomeya Lyrics
Na wo ankhiyaan ruhaani kahin
Na wo chehara nuraani kahin
Kahin dil waali baaten bhi na
Na wo sajari jawaani kahin

Jag ghumeya thaare jaisa na koi
Jag ghumeya thaare jaisa na koi

Na to hnsana rumaani kahin
Na to khushabu suhaani kahin
Na wo rngali adaaen dekhin
Na wo pyaari si naadaani kahin
Jaisi tu hai waisi rahana

Jag ghumeya thaare jaisa na koi
Jag ghumeya thaare jaisa na koi

Baarishon ke mausamon ki bhigi hariyaali tu
Sardiyon men gaalon pe jo ati hai wo laali tu
Raaton ka sukun bhi hai subah ki azaan hai
Chaahaton ki chaadaron men mainne hai snbhaali tu
Kahin ag jaisi jalati hai
Bane barakha ka paani kahin
Kabhi man jaana chupake se
Yun hi apani chalaani kahin
Jaisi tu hai waisi rahana

Jag ghumeya thaare jaisa na koi
Jag ghumeya thaare jaisa na koi

Apane nasibon men ya hausale ki baaton men
Sukhon aur dukhon waali saari saugaaton men
Sng tujhe rakhana hai tune sng rahana
Meri duniya men bhi mere jazbaaton men
Teri milati nishaani kahin
Jo hai sabako dikhaani kahin
Tu to jaanati hai mar he bhi
Mujhe ati hai nibhaani kahin
Wahi karana jo hai kahana

Jag ghumeya thaare jaisa na koi
Jag ghumeya thaare jaisa na koi


Additional Information
गीतकार : इर्शाद कामिल, गायक : राहत फ़तेह अली खान, संगीतकार : विशाल – शेखर, गीत संग्रह / चित्रपट : सुल्तान (२०१६ ) / Lyricist : Irshad Kamil, Singer : Rahat Fateh Ali Khan, Music Director : Vishal – Shekhar, Album/Movie : Sultan (2016)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s