Jaise Suraj Ki Garmi Se / जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाए

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर की छाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जब से शरण तेरी आया, मेरे राम

भटका हुआ मेरा मन था कोई मिल ना रहा था सहारा
लहरों से लड़ती हुई नाव को जैसे मिल ना रहा हो किनारा
उस लड़खड़ाती हुई नाव को जो किसी ने किनारा दिखाया

शीतल बने आग चंदन के जैसी, राघव कृपा हो जो तेरी
उजियाली पूनम की हो जाएँ रातें, जो थी अमावस अंधेरी
युग-युग से प्यासी मरूभूमी ने जैसे सावन का संदेस पाया

जिस राह की मंज़िल तेरा मिलन हो, उस पर कदम मैं बढ़ाऊँ
फूलों में खारों में, पतझड़ बहारों में, मैं ना कभी डगमगाऊँ
पानी के प्यासे को तकदीर ने जैसे जी भर के अमृत पिलाया

Jaise Suraj Ki Garmi Se Lyrics
Jaise suraj ki garmi se jalate hue tan ko
Mil jaaye taruwar ki chhaaya
Aisa hi sukh mere man ko mila hai
Main jab se sharan teri aya, mere raam

Bhataka hua mera man tha koi mil na raha tha sahaara
Laharon se ladti hui naaw ko jaise mil na raha ho kinaara
Us ladkhadaati hui naaw ko jo kisi ne kinaara dikhaaya

Shital bane ag chndan ke jaisi, raaghaw kripa ho jo teri
Ujiyaali punam ki ho jaaen raaten, jo thi amaawas andheri
Yug-yug se pyaasi marubhumi ne jaise saawan ka sndes paaya

Jis raah ki mnjil tera milan ho, us par kadam main badhaaun
Fulon men khaaron men, patajhad bahaaron men, main na kabhi dagamagaaun
Paani ke pyaase ko takadir ne jaise ji bhar ke amrit pilaaya
Additional Information
गीतकार : रामानंद शर्मा, गायक : शर्मा बंधू , संगीतकार : जयदेव, चित्रपट : परिणय (१९७४) / Lyricist : Ramanand Sharma, Singer : Sharma Bandhu, Music Director : Jaidev, Movie : Parinay (1974)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s