Humein To Loot Liya Milke Husn Walon Ne / हमें तो लूट लिया मिलके हुस्न वालों ने

हमें तो लूट लिया मिलके हुस्न वालों ने
काले-काले बालों ने, गोरे गोरे गालों ने

नज़र में शोख़ियाँ और बचपना शरारत में
अदाएँ देख के हम फंस गए मोहब्बत में
हम अपनी जान से जाएँगे जिनकी उल्फ़त में
यक़ीन है के न आएँगे वो ही मय्यत में
ख़ुदा सवाल करेगा अगर क़यामत में
तो हम भी कह देंगे हम लुट गए शराफ़त में

वहीं वहीं पे क़यामत हो वो जिधर जाएँ
झुकी झुकी हुई नज़रों से काम कर जाएँ
तड़पता छोड़ दें रस्ते में और गुज़र जाएँ
सितम तो है ये कि दिल ले लें और मुकर जाएँ
समझ में कुछ नहीं आता कि हम किधर जाएँ
यही इरादा है ये कह के हम तो मर जाएँ

वफ़ा के नाम पे मारा है बेवफाओं ने
के दम भी हमको न लेने दिया जफ़ाओं ने
खुदा भुला दिया इन हुस्न के खुदाओं ने
मिटा के छोड़ दिया इश्क़ की खताओं ने
उड़ाया होश कभी ज़ुल्फ़ की हवाओं ने
हया ने नाज़ ने लूटा कभी अदाओं ने

हज़ारों लुट गए नज़रों के एक इशारे पर
हज़ारों बह गए तूफ़ान बन के धारे पर
न इन के वादों का कुछ ठीक है न बातों का
फ़साना होता है इनका हज़ार रातों का
बहोत हसीं है वैसे तो भोलपन इनका
भरा हुआ है मगर ज़हर से बदन इनका
ये जिसको काट ले पानी वो पी नहीं सकता
दवा तो क्या है दुआ से भी जे नहीं सकता
इन्हीं के मारे हुए हम भी हैं ज़माने में
हैं चार लफ्ज़ मोहब्बत के इस फ़साने में

ज़माना इनको समझता है नेक और मासूम
मगर ये कैसे हैं, क्या हैं, किसी को क्या मालूम
इन्हें न तीर न तलवार की ज़रुरत है
शिकार करने को काफी निगाह-ए-उल्फ़त है
हसीन चाल से दिल पायमाल करते हैं
नज़र से करते हैं बातें कमाल करते हैं
हर एक बात में मतलब हज़ार होते हैं
ते सीधे सादे बड़े होशियार होते हैं
खुदा बचाए हसीनों की तेज चालों से
पड़े किसी का भी पाला न हुस्नवालों से

हुस्न वालों में मोहब्बत की कमी होती है
चाहने वालों की तक़दीर बुरी होती है
उनकी बातों में बनावट ही बनावट देखी
शर्म आँखों में निग़ाहों में लगावट देखी
आग पहले तो मोहब्बत की लगा देते हैं
अपने रुख़सार का दीवाना बना देते हैं
दोस्ती कर के फिर अनजान नज़र आते हैं
सच तो ये है कि बेईमान नज़र आते हैं
मौत से कम नहीं दुनिया में मोहब्बत इनकी
ज़िन्दगी होती है बर्बाद बदौलत इनकी
दिन बहारों के गुजरते है मगर मर मर के
लूट गए हम तो हसीनों पे भरोसा कर के
#BollywoodQawwali #Qawwali

Humein To Loot Liya Milke Husn Walon Ne Lyrics
Hamen to lut liya milake husn waalon ne
Kaale-kaale baalon ne, gore gore gaalon ne

Nazar men shokhiyaan aur bachapana sharaarat men
Adaaen dekh ke ham fns ge mohabbat men
Ham apani jaan se jaaenge jinaki ulfat men
Yaqin hai ke n aenge wo hi mayyat men
Khuda sawaal karega agar qayaamat men
To ham bhi kah denge ham lut ge sharaafat men

Wahin wahin pe qayaamat ho wo jidhar jaaen
Jhuki jhuki hui nazaron se kaam kar jaaen
Tadapata chhod den raste men aur guzar jaaen
Sitam to hai ye ki dil le len aur mukar jaaen
Samajh men kuchh nahin ata ki ham kidhar jaaen
Yahi iraada hai ye kah ke ham to mar jaaen

Wafa ke naam pe maara hai bewafaaon ne
Ke dam bhi hamako n lene diya jafaaon ne
Khuda bhula diya in husn ke khudaaon ne
Mita ke chhod diya ishq ki khataaon ne
Udaaya hosh kabhi zulf ki hawaaon ne
Haya ne naaz ne luta kabhi adaaon ne

Hazaaron lut ge nazaron ke ek ishaare par
Hazaaron bah ge tufaan ban ke dhaare par
N in ke waadon ka kuchh thhik hai n baaton ka
Fasaana hota hai inaka hazaar raaton ka
Bahot hasin hai waise to bholapan inaka
Bhara hua hai magar zahar se badan inaka
Ye jisako kaat le paani wo pi nahin sakata
Dawa to kya hai dua se bhi je nahin sakata
Inhin ke maare hue ham bhi hain zamaane men
Hain chaar lafz mohabbat ke is fasaane men

Zamaana inako samajhata hai nek aur maasum
Magar ye kaise hain, kya hain, kisi ko kya maalum
Inhen n tir n talawaar ki zarurat hai
Shikaar karane ko kaafi nigaah-e-ulfat hai
Hasin chaal se dil paayamaal karate hain
Nazar se karate hain baaten kamaal karate hain
Har ek baat men matalab hazaar hote hain
Te sidhe saade bade hoshiyaar hote hain
Khuda bachaae hasinon ki tej chaalon se
Pade kisi ka bhi paala n husnawaalon se

Husn waalon men mohabbat ki kami hoti hai
Chaahane waalon ki taqadir buri hoti hai
Unaki baaton men banaawat hi banaawat dekhi
Sharm ankhon men nigaahon men lagaawat dekhi
Ag pahale to mohabbat ki laga dete hain
Apane rukhasaar ka diwaana bana dete hain
Dosti kar ke fir anajaan nazar ate hain
Sach to ye hai ki beimaan nazar ate hain
Maut se kam nahin duniya men mohabbat inaki
Zindagi hoti hai barbaad badaulat inaki
Din bahaaron ke gujarate hai magar mar mar ke
Lut ge ham to hasinon pe bharosa kar ke

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s